मुस्कान


गुलाबी है ये हवा , या गुलाबी हो गया ये मन जगी है दिल मे नयी उमंग... मायूस थी साँसें , अब नन्ही बच्ची की तरह हसती खेलती है आयने की आँखों मै खुशी झलकती है.. गम कि आँधी आयी थी, मुश्कीलो के तूफ़ान मे ख्वाब दफन हो गये , एक दिन अचानक , ऐक हवा का झोका उमीद का एहसास ले आया बस फिर कोई चेहरे की मुस्कुराहट कोई छीन ना सका -

39 vues0 commentaire

RASA AUR DRAMA THEATRE

 

Auditions

Video

Student Centre

Industry

Script Database

© RAS AUR DRAMA PUBLISHERS PRIVATE LIMITED 2019-2021